महज शादी के लिए धर्म परिवर्तन वैध नहीं: इलाहाबाद हाई कोर्ट

Must read

भारत सरकार द्वारा नवंबर तक गरीबों को दिया जाएगा निशुल्क राशन

भोपाल । 7 जून , (प्योरपॉलीटिक्स) अब पूरे देश में 18 वर्ष से ऊपर के सभी आयु समूहों के कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य केंद्र सरकार...

22670 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पुनः प्रारंभ -मुख्यमंत्री चौहान

भोपाल । 7 जून , (प्योरपॉलीटिक्स) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना काल में सबसे ज्यादा रोजगार प्रभावित हुआ है। दूसरी लहर...

Covid-19: प्रभावित परिवारों को दी जाएगी अनुकम्पा नियुक्ति और आर्थिक सहायता

भोपाल । 18 मई , (प्योरपॉलीटिक्स) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोविड के संकटकाल में हमारे कर्मचारियों ने पूरी निष्ठा और समर्पण...

Interest-free loan: काम-धन्धे के लिए मिलेगा बिना ब्याज का ऋण

भोपाल । 13 मई , (प्योरपॉलीटिक्स) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना महामारी से अनेक परिवारों में कोई भी कमाने वाला और...

प्रयागराज2 नवंबर , (प्योरपॉलीटिक्स) 

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले में कहा है कि महज शादी के लिए धर्म परिवर्तन वैध नहीं है। अदालत ने यह टिप्पणी उस याचिका को खारिज करते हुए की जिसमें एक नवविवाहित जोड़े ने अदालत से पुलिस और लड़की के पिता को उनकी वैवाहिक जिंदगी में खलल नहीं डालने का निर्देश देने की गुहार लगाई थी।

न्यायमूर्ति एमसी त्रिपाठी ने पिछले महीने प्रियांशी उर्फ समरीन और उसके जीवन साथी द्वारा दायर एक याचिका पर यह आदेश पारित किया।

याचिका में कहा गया था कि उन्होंने इस साल जुलाई में शादी की, लेकिन लड़की के परिजन उनकी वैवाहिक जिंदगी में हस्तक्षेप कर रहे हैं। इस याचिका को खारिज करते हुए अदालत ने कहा, ‘अदालत ने दस्तावेज देखने के बाद पाया कि लड़की ने 29 जून, 2020 को अपना धर्म परिवर्तन किया और एक महीने बाद 31 जुलाई, 2020 को उसने शादी की जिससे स्पष्ट पता चलता है कि यह धर्म परिवर्तन केवल शादी के लिए किया गया.’ अदालत ने नूर जहां बेगम के मामले का संदर्भ ग्रहण किया जिसमें 2014 में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा था कि महज शादी के उद्देश्य से धर्म परिवर्तन अस्वीकार्य है।

नूर जहाँ केस

नूर जहाँ बेगम के मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी थी जिसमें विवाहित जोड़े को सुरक्षा मुहैया कराने की प्रार्थना की गई थी क्योंकि इस मामले में लड़की हिंदू थी और उसने इस्लाम धर्म अपनाने के बाद निकाह किया था. उस मामले में अदालत ने पूछा था, ‘इस्लाम के ज्ञान या इसमें आस्था और विश्वास के बगैर एक मुस्लिम लड़के के इशारे पर एक हिंदू लड़की द्वारा केवल शादी के उद्देश्य से धर्म परिवर्तन करना वैध है?’ अदालत ने उस समय इसका जवाब ना में दिया था।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

भारत सरकार द्वारा नवंबर तक गरीबों को दिया जाएगा निशुल्क राशन

भोपाल । 7 जून , (प्योरपॉलीटिक्स) अब पूरे देश में 18 वर्ष से ऊपर के सभी आयु समूहों के कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य केंद्र सरकार...

22670 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पुनः प्रारंभ -मुख्यमंत्री चौहान

भोपाल । 7 जून , (प्योरपॉलीटिक्स) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना काल में सबसे ज्यादा रोजगार प्रभावित हुआ है। दूसरी लहर...

Covid-19: प्रभावित परिवारों को दी जाएगी अनुकम्पा नियुक्ति और आर्थिक सहायता

भोपाल । 18 मई , (प्योरपॉलीटिक्स) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोविड के संकटकाल में हमारे कर्मचारियों ने पूरी निष्ठा और समर्पण...

Interest-free loan: काम-धन्धे के लिए मिलेगा बिना ब्याज का ऋण

भोपाल । 13 मई , (प्योरपॉलीटिक्स) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना महामारी से अनेक परिवारों में कोई भी कमाने वाला और...

मुख्मयंत्री चौहान ने अंतर्राष्ट्रीय नर्सिंग दिवस पर प्रदेश की नर्सों को किया संबोधित

भोपाल । 12 मई , (प्योरपॉलीटिक्स) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोविड जैसी विकट महामारी में आप अपनी जान की परवाह किए...